Friday, May 1, 2015

आज की राज














मानस! क्यूँ आकुल है तू !
किस कारण व्याकुल है तू !!

तू जल रहा है राग में,
कामना की आग में !
रिद्धि-सिद्धि के लिए,
इस आग को तू रोक ले !!

ध्येय अपना साधकर,
उत्तेजना को बांधकर !
लक्ष्य के प्रयास में ,
तू पूरी ऊर्जा झोंक दे !!

यह पल अभी जो आया है,
वापस कभी न आएगा !
जिंदगी के राह का,
इतिहास बन रह जाएगा !!

दिन-प्रतिदिन ध्यान कर,
जीने की कला सीख तू !
कर्मों के कलम से अभी,
इतिहास अपना लिख तू !!

कभी भी अधीर हो,
भाग्य पे रोना नहीं !
विलासिता की चाह में
समय व्यर्थ खोना नहीं !

यह समय बहुत बलवान है,
जीवन की यही जान है !

इस समय अगर तू,
कर्मोन्मुख  हो जाएगा!
जीवन के डगर पे,
रिद्धि-सिद्धि पायेगा !!

रिद्धि-सिद्धि पायेगा, तू
रिद्धि-सिद्धि पायेगा.....!!