Wednesday, February 23, 2011

दीवानगी IAS की

कल तक इस तपते सूरज को,
बादल से छुपते जब देखा!
बावला हुआ मन यह सोचकर,
कैसी सुहानी मौसम लायी है मेघा!!

याद आया जब इस मौसम में,
Long-Drive पे जाता था!
गाना आये या न आये,
यारों के सुर में सुर लगाता था!!

खिड़की के बाहर से जब-जब,
ये मौसम मुझे रिझाती है!
कमरे के अन्दर से UPSC,
Syllabus का बोझ दिखाती है!!

IAS के रूप में इस जोगन ने,
ऐसी जोग लगायी है!
की लगता है अब जैसे,
Mathematics ही मेरी लुगाई है!!
व् Paali मेरी साली है!!

Paali मेरी साली है,
व् G.S. ही सखा-सहेली है,
कुल मिलाकर UPSC,
इक बड़ी अनबुझी पहेली है!!

IAS की ये कैसी, दीवानगी हमपे छायी है!
जिसके लिये हमने, सारी मस्ती ठुकराई है!!

ये कैसी दीवानगी हमपे छायी है!
की हमने सारी मस्ती ठुकराई है!!...:)